in

पंजशीर के दरवाजे तक ही पहुंचा है तालिबान, ‘मौत की घाटी’ में जंग अभी बाकी है

पंजशीर के दरवाजे तक ही पहुंचा है तालिबान, 'मौत की घाटी' में जंग अभी बाकी है thumbnail
काबुल

तालिबान ने सोमवार को पंजशीर में गवर्नर ऑफिस के बाहर अपना झंडा लगा दिया। दावा किया कि घाटी पर अब उसका कब्जा है और इसके साथ ही पूरे अफगानिस्तान पर उसका शासन हो गया है। लेकिन क्या वाकई ऐसा है? Northern Alliance ने इन दावों को खारिज किया है और अफगान पत्रकार नतीक मलिकजादा के मुताबिक पंजशीर घाटी को जीतना इतना आसान भी नहीं है। इसे ‘मौत की घाटी’ यूं ही नहीं कहा जाता।

नतीक ने बताया है कि पंजशीर घाटी पर कब्जा आखिर इतना मुश्किल क्यों है। उन्होंने समझाया है कि पंजशीर एक पूरी घाटी है और सिर्फ एक सड़क है जो इसके आखिर तक जाती है। इसे मुख्य घाटी की सड़क कहते हैं। उन्होंने मैप में दिखाया है कि इस सड़क के दोनों ओर से दर्जनों घाटियां निकलती हैं जैसे किसी पेड़ की जड़ें हों।

तस्वीर: ट्विटर @natiqmalikzada

तस्वीर: ट्विटर @natiqmalikzada


उन्होंने बताया है कि गवर्नर के जिस ऑफिस पर तालिबान ने कब्जा किया है वह मेन रोड पर है जबकि दूसरी घाटियों तक तालिबान अभी नहीं पहुंचा है। विद्रोही दल के सैनिक इन घाटियों से लड़ाई लड़ रहे हैं। उन्होंने यह भी बताया है कि तालिबान ने सिर्फ एक सड़क और एक खाली ऑफिस पर कब्जा किया है और इसे जीत का नाम देना उसकी बेवकूफी है।

मलिकजादा का कहना है कि अगर तालिबान को पंजशीर पर कब्जा करना है तो उन्हें हर घाटी को जीतने के लिए दर्जनों बार लड़ाई लड़नी पड़ेगी। उन्होंने बताया है कि USSR भी इस सड़क पर आया और 9 साल में 9 बार कुछ अलग-अलग घाटियों तक पहुंचा और हर बार उसे खाली हाथों लौटना पड़ा। उनके मुताबिक तालिबान के पास अहमद का ऑफर लेकर वापस लौटने का विकल्प था लेकिन उन्होंने जंग को चुना है और अब वे असली जंग का सामना करेंगे।

भले ही विद्रोह आंदोलन के नेताओं के ताजिकिस्तान चले जाने की खबरें आ रही हों, घाटी में तालिबान की चुनौती खत्म नहीं हुई है। दरअसल, यहां के लोगों में खुद ही हथियार लेकर अपनी जमीन बचाने को जंग में कूदने का जज्‍बा है। न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स की एक रिपोर्ट में एक स्‍थानीय निवासी ने कहा था, ‘हम मुकाबला बरेंगे, सरेंडर नहीं। हम कभी घुटने नहीं टेकेंगे। पंजशीर के लोग कभी आतंकियों के आगे कभी सरेंडर नहीं करेंगे… ऐसा होने से पहले हम मौत को गले लगा लेंगे।’

पंजशीर घाटी

पंजशीर घाटी

Navbharat Times News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NBT ऐप

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए NBT फेसबुक पेज लाइक करें

Web Title : reasons why claims of taliban winning panjshir by taliban are not substantial images from valley explain

Hindi News from Navbharat Times, TIL Network

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

GIPHY App Key not set. Please check settings

Tokyo Paralympics: Heroes return to grand welcome, India finish campaign with 19 medals thumbnail

Tokyo Paralympics: Heroes return to grand welcome, India finish campaign with 19 medals

Govt fast-tracks acquisition of Made in India drones from Defence startups thumbnail

Govt fast-tracks acquisition of Made in India drones from Defence startups